: में राष्ट्रपति ट्रम्प ने से निपटने के लिए एक दी, जिसकी बाद में काफी आलोचना भी हो रही है। हुआ यूं कि अमेरिका में और कोरोना वायरस टास्क फोर्स के शोद में पाया गया है कि किसी सतह या हवा में मौजूद कोरोना वायरस सूरज की रोषनी, आर्द्रता और तापमान में मिनटों में ही मर जाता है।कोरोना टास्क फोर्स ने अपने प्रजेंटेशन पर इस तथ्य की जानकारी दी, तो राष्ट्रपति ट्रम्प ने सुझाव दे दिया कि ऐसी ही पावरफुल लाइट को इंसानों के शरीर के अंदर पहुंचाना चाहिए।

अमेरिका में के टेक्नोलॉजी डायरेक्टोरेट के प्रमुख बिल ब्रायन ने बताया था कि ब्लीच और आइसोप्रोपिल एल्कोहल वायरस को 5 मिनट में और एल्कोहल 30 सेकंड में मार देता है। इस पर ट्रम्प ने यह तक सुझाव दे दिया कि लोगों के शरीर में आईसोप्रोपिल एल्कोहल जैसे क्लींजर के इंजेक्षन लगाना चाहिए।

usa today : आइसोप्रोपिल एल्कोहल का इस्तेमाल डिटर्जेंट के साथ ही अन्य रसायन बनाने में किया जाता है, इससे मानव शरीर के लिए यह काफी दायक हो सकता है। ऐसे में ट्रम्प के इस सुझाव की आलोचना हुई।

usa today
source by : GNS
usa today news

ब्रीफिंग के दौरान मीडिया से बातचीत में ट्रम्प ने कहा कि जब मैनें पहली बार सूर्य की तेज रोशनी और गर्मी में कोरोनावायरस के खत्म होने की बात कही थी तो लोगों ने नहीं माना था। अब उसी बात को ब्रायन ने सबसे सामने सिद्ध करके दिखाया है।