न्यूयॉर्क : (UN)में (OIC) की वर्चुअल मीटिंग में ने एक बार फिर भारत के खिलाफ चलाया लेकिन उसे इस बार भी मुंह की खानी पड़ी। मींटिंग में पाक ने आरोप लगाया कि भारत में इस्लामोफोबिया फैलाया जा रहा है जिस पर मालदीव ने करारा जवाब देकर पाकिस्तान का मुंह बंद कर दिया। मालदीव ने पाक आईना दिखाते हुए कहा- सोशल मीडिया पर चंद लोग जो हरकतें या बयानबाजी करते हैं, उसे 130 करोड़ भारतीयों की राय नहीं समझा जा सकता।


पाकिस्तान के इस्लामोफोबिया कार्ड पर UN में मालदीव की स्थायी प्रतिनिधी थिलमीजा हुसैन ने कहा, “कुछ भटके हुए लोगों द्वारा सोशल मीडिया पर फैलाई गई बातें भारत के 130 करोड़ लोगों की राय नहीं हो सकती। भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। वहां कई धर्मों के लोगों के अलावा 20 करोड़ मुस्लिम भी रहते हैं। ऐसे में इस्लामोफोबिया की बात करना ही बेकार है। क्योंकि, इसमें कोई तथ्य नहीं है।”

OIC मीटिंग में पाक ने फिर चला इस्लामोफोबिया कार्ड, मालदीव ने भारत के हक में दिया मुंहतोड़ जवाब 1
तस्वीर पर क्लिक करे – आगे पढ़े

मालदीव की प्रतिनिधी ने कहा, “भारत में सदियों से इस्लाम है। वहां हर मजहब के लोग मिलजुलकर रहते हैं। किसी को यह नहीं भूलना चाहिए कि इस्लाम भारत का दूसरा सबसे बड़ा मजहब है। उन्होंने कहा कि भारत की कुल आबादी का 14.2 फीसदी मुस्लिम हैं। मालदीव OIC में ऐसी किसी कार्रवाई का समर्थन नहीं करेगा जो भारत के खिलाफ हो।”

बता दें कि पिछले कुछ साल में भारत और मालदीव के रिश्ते काफी मजबूत हुए हैं। दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी ने सबसे पहला मालदीव का ही दौरा किया था। बता दें कि मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इन दिनो सोशल मीडिया पर कई पाकिस्तानी यूजर्स भारत के खिलाफ प्रोपेगंडा चला रहे हैं जिसमें कहा जा रहा है कि भारत में मुस्लिमों के लिए कोई जगह नहीं बची।


वहां इस्लामोफोबिया फैल रहा है। भारत में पाकिस्तान की इस हरकत को साजिश के तौर पर देखा जा रहा है। दरअसल, पाकिस्तान झूठ फैलाकर भारत और अरब देशों के बीच खाई पैदा करना चाहता है। अरब देशों की बड़ी हस्तियों को भारत के खिलाफ भड़काने की साजिश हो रही है। ओआईसी में भी पाकिस्तान ने यही चाल चली। उसके प्रतिनिधी मुनीर अकरम में भारत पर कई आरोप लगाए लेकिन वहां भी उसे करारा जवाब मिला था।