• इससे सरकार को निजी अस्पतालों में हजारों बेड और सुविधायुक्त लैब मिलेंगे, टेस्टींग बढेंगे..
  • टेस्टींग कार्य लोकडाउन में बंद नीजी लेब को सौंपा जा सकता है, जो छोटे शहरों में भी है, ….. टेस्टींग में गति आएगी – की श्रृंखला टूटेगी …!
  • परीक्षण की मात्रा में वृद्धि होगी, तो कोरोना के छिपे हुए रोगी मिल सकते है…….। सरकार यही तो चाहती है..
  • ऐसे लोगों के परीक्षण से कोरोना की चेन टूट जाएगी, कोरोना भाग जाएगा …..
  • अगर कोरोना से लोगों को बचाने के लिए निजी अस्पतालों या निजी प्रयोगशालाओं की सेवाओं में 200 करोड़ रुपये का उपयोग किया जाता है, तो भी कोई विरोध नहीं होगा …।इससे सरकार को निजी अस्पतालों में हजारों बेड और सुविधायुक्त लैब मिलेंगे, टेस्टींग बढेंगे..
  • टेस्टींग कार्य लोकडाउन में बंद नीजी लेब को सौंपा जा सकता है, जो छोटे शहरों में भी है, ….. टेस्टींग में गति आएगी – कोरोना की श्रृंखला टूटेगी …!
  • परीक्षण की मात्रा में वृद्धि होगी, तो कोरोना के छिपे हुए रोगी मिल सकते है…….। सरकार यही तो चाहती है..
  • ऐसे लोगों के परीक्षण से कोरोना की चेन टूट जाएगी, कोरोना भाग जाएगा …..
  • अगर कोरोना से लोगों को बचाने के लिए निजी अस्पतालों या निजी प्रयोगशालाओं की सेवाओं में 200 करोड़ रुपये का उपयोग किया जाता है, तो भी कोई विरोध नहीं होगा …।

कोरोना , कोरोना . कोरोना, पिछले दो महीनों से, गुजरात और देश के लोग कोरोना के नाम से इतने उत्तेजित हो गए हैं कि अगर कोई खाली को… बोलता है … वे तुरंत मान लेते हैं कि यह शब्द है कोरोना .!!

की ओर से सचिव जयंती रवि ने कोरोना से ओर दो महीने ज्यादा लड़ने की घोषणा की है। अहमदाबाद के मुनि. कमिश्नर विजय नेहरा, रवि से दो कदम आगे जाते हैं और कहते हैं कि 50,000 मामले अकेले अहमदाबाद में 15 मई तक दर्ज किए जा सकते हैं। यह याद रखना चाहिए कि इस तरह की घोषणाएँ नेताओं या सरकार के सीएम विजय रूपानी या नितिन पटेल द्वार नहीं की गईं।

वे स्वयं 6 करोड़ की आबादी को हाल के समय में इतना महत्वपूर्ण क्यों नहीं मानते और अधिकारियों को क्यों मिडिया ब्रिफिंग के लिये आगे करते हैं यह राजनीति विज्ञान के छात्रों के लिए शोध का विषय भी हो सकता है। कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। सरकार कार्रवाई कर रही है। फिर भी बीमारी नियंत्रण में नहीं है। इस संबंध में जीएनएस के माध्यम से कुछ चिकित्सा विशेषज्ञों से बात करते हुए, यदि उनके द्वारा सुझाए गए उपायों को लागू किया जाता है, तो परीक्षण की मात्रा बढ़ जाएगी, कोरोना के छिपे हुए रोगी हाथ में आएंगे और सरकार कोरोना की श्रृंखला को बहुत जल्दी से तोड़ने में सक्षम और कामियाब होगी।

सरकार कोरोना के
source by : GNS

डॉक्टरों द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार, कोरोना वायरस की श्रृंखला को तोड़ना आवश्यक है। एक सकारात्मक-पोझीटीव श्रृंखला दूसरे और दूसरे से तीसरे तक फैलती है। लेकिन अगर पहला या दूसरा पाया जाता है, तो यह श्रृंखला आगे बढ़ना बंद कर देगी। और इसके लिए परीक्षण यानि टेस्टींग की मात्रा बढ़ानी होगी। सरकार के पास सरकारी अस्पतालों की सीमा है। निजी अस्पताल जो बेहतरीन लैब से लैस है। वर्तमान में लॉकडाउन और कोरोना के कारण आपात स्थिति को छोड़कर निजी अस्पताल खाली हैं। सरकार उनके साथ एक समझौता करे।

के लिये कमरे का शुल्क निर्धारित करे। परीक्षण दर भी निर्धारित करे और सरकारी अस्पतालों में जगह न होने पर किराए पर लिये निजी अस्पतालों में कोरोना पॉजिटिव मरीजों को भेज सकती है। जहां परीक्षण और उपचार दोनो होगा। सरकार कोरोना के इलाज की उचित लागत दर तय करे और प्रति मरीज के हिसाब से भुगतान करे । यहा पारदर्शिता बनाए रखना है। ताकि सरकार या अस्पतालों पर कोई उंगली न उठाए!

#रामायणं


सरकार के पास आपातकालीन स्थिति में ऐसे अस्पतालों को संचालित करने का कानूनी अधिकार है। लेकिन यह बहुत ही लचीला होगा यदि सरकार मल्टी-सुपर स्पेशियलिटी अस्पतालों के पास सामने चल कर उनके साथ काम करे। सरकार उनके साथ एक मरीज के इलाज की सस्ती दर तय कर सकती है। अगर ऐसा होता है, तो सरकार को अहमदाबाद और गुजरात के सैकड़ों अस्पतालों में हजारों बेड और लैब का लाभ मिलेगा। और निजी अस्पताल भी कोरोना युद्ध में योगदान दे सकते हैं।


इसके अलावा, अहमदाबाद सहित छोटे छोटे शहरों में अच्छी तरह से सुसज्जित प्रयोगशालाएँ यानि लैब हैं।

उनसे एक मानक लैब का चयन करके और कोरोना के परीक्षण को मंजूरी देकर, सरकारी लैब पर बोझ कम हो जाएगा और निजी लैब को भी राजस्व प्राप्त होगा। हालाँकि परीक्षण के लिए पैसे का भुगतान रोगी के बजाय सरकार द्वारा किया जाना होगा ।

यदि सरकार अपनी उचित दर तय करती है और उन्हें युद्ध में शामिल करती है, तो हर दिन हजारों नीजी प्रयोगशालाओं में परीक्षण किया जाएगा। प्रति दिन 3,000 परीक्षणों की वर्तमान क्षमता सकारात्मक-पोझीटीव रोगियों की बढ़ती संख्या का पता लगाने में तेजी लाएगी और कोरोना श्रृंखला को तोड़ने में सफल हो सकती है। इस तरह के लैब वर्तमान में लॉकडाउन में बंद होने पर उन्हें राजस्व भी मिलेगा। और परीक्षण की कमी के कारण, कई संभावित कोरोना पॉजिटिव लोग जो खुले तौर पर घूम रहे हैं, उन्हें भी पता नहीं चल सकता है कि उनके पास कोरोना के लक्षण हैं, ऐसे लोगों का परीक्षण करना जो कोरोना चेन को तोड़ देंगे, कोरोना को विभाजित कर देंगे।

आयुष मंत्रालय के लिए – यहाँ क्लिक करे


विशेषज्ञों का मानना है कि सरकार ने कई कोरोना अस्पतालों की स्थापना की है। 200 मामले रोज बढ़ रहे हैं। 200 मामले यानी 200 मरीज और 200 मरीज यानी 200 बेड की व्यवस्था करनी होगी। 1200 बेड के अस्पताल में जगह नहीं है। इसलिए सरकार को इस लड़ाई में निजी अस्पतालों और निजी प्रयोगशालाओं की मदद लेनी चाहिए।

नमस्ते ट्रम्प ने 200 करोड़ रुपये खर्च किए। किसी ने विरोध नहीं किया। अगर कोरोना से लोगों को बचाने के लिए निजी अस्पतालों या निजी प्रयोगशालाओं की सेवाओं में 200 करोड़ रुपये का उपयोग किया जाता है, तो भी कोई विरोध नहीं होगा। क्योंकि खुद देश के लोकप्रिय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदीजीने ही कहा है- जान है तो जहान है….जान भी बचाना है, जहान भी बचाना है…!