चेन्नई 10 मई दक्षिण भारतीय फिल्मों के सुपरस्टार रजनीकांत ने तमिलनाडु की सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक सरकार को शराब की दुकानों को पुन: खोलने को लेकर आगाह करते हुए कहा कि यदि वह ऐसा करती है तो उसे सत्ता में दोबारा आने का सपना देखना छोड़ देना चाहिए।


वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए देश भर में 25 मार्च से राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लागू है और तब से ही शराब की दुकानें भी बंद थी।

लेकिन लॉकडाउन के नियमों में कुछ छूट मिलने के बाद सात मई से तमिलनाडु में कंटेनमेंट जोन को छोड़कर शेष हिस्सों में शराब की दुकानाें को खोल दिया गया था।

शराब की दुकानें खुलने के बाद राज्य भर में इसकी दुकानोें के आगे लंबी-लंबी कतारें देखी गयीं जहां शारीरिक दूरी के नियम की खुले आम धज्जियां उड़ रही थीं। इसके अगले ही दिन मद्रास उच्च न्यायालय ने शराब की सभी दुकानाें को बंद करने के निर्देश देते हुए राज्य सरकार से शराब की ऑनलाइन बिक्री करने का आग्रह किया था।


इस संबंध में उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ राज्य सरकार ने शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया है।


रजनीकांत ने राज्य सरकार के इस फैसले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा,“यदि आप तमिलनाडु में दाेबारा शराब की दुकानों को खोलते हो तो भूल जाओ कि आप दोबारा सत्ता में आओगे।”


साथ ही रजनीकांत ने कहा कि राज्य सरकार को अन्य तरीकों से राजस्व बढ़ाने के प्रयास करने चाहिए।


रजनीकांत के अलावा विपक्षी दल द्रमुक और मक्कल निधि माइयम के संस्थापक एवं अभिनेता कमल हासन ने भी राज्य सरकार के शराब की दुकानाें को पुन: खोलने के फैसले का विरोध किया था। अन्नाद्रमुक की सहयोगी भारतीय जनता पार्टी, डीएमडीके और पीएमके ने भी इस फैसले का विरोध किया है।