श्रीगंगानगर 26 मई (वार्ता) राजस्थान एसोसिएशन (अरे यूके) गैलेक्सी ऑफ दी स्टार्स लाइव शो कोरोना काल में इंग्लैंड (यूके) और अन्य देशों में बसे प्रवासी राजस्थानियों को राज्य की माटी से जोडने के प्रयास तहत इन लाइव शो आयोजित किया गया।


फेसबुक, यूट्यूब एवं ट्विटर के जरिये आरएयूके राजस्थानी भाषा, संस्कृति, लोक कलाकार, लोक संगीत, लोक कथा, कवि , इतिहासकार तथा अन्य प्रतिष्ठित व्यक्तित्व से संवाद, कला प्रदर्शन से प्रवासी राजस्थानियों को प्रोत्हासित करने का कार्य कर रहा है। इसी श्रंखला में महान महाराणा प्रताप की 480वीं जयंती पर सोमवार को उनके वंशज लक्ष्यराजसिंह मेवाड़ के साथ राजस्थानी इतिहास के महत्व और समसामयिक विषयों पर चर्चा रखी गई।

, प्रताप के व्यक्तित्व से जोड़ दिया गया कि उनका भाला 80 किलो का था


चर्चा को राजस्थान एसोसिएशन यूके से हरेंद्र सिंह जोधा ने संचालित किया। चर्चा का मुख्य विषय राजस्थानी संस्कृति और राजस्थान का इतिहास रहा। लक्ष्यराजसिंह मेवाड़ के साहित्य, इतिहास और सांस्कृतिक धरोहर विषयों, रूचि एवं इनके आज के परिपेक्ष में महत्व और उपयोग पर विचार जाने गए।


मेनचेस्टर निवासी नरेश नरुका ने महाराणा प्रताप के भाले के सन्दर्भ प्रचलित किंवदंती के बारे में पूछा कि क्या वास्तव में उनका भाला लगभग 80 किलो का था? क्या आपने उसे उठाया हैं? लक्ष्यराज सिंह ने कहा कि यह 80 किलो वजन सम्पूर्ण सत्य नहीं है। अपितु यह महाराणा प्रताप के भारी भरकम व्यक्तित्व के साथ जोड़ दिया गया है। यह सन्देश देने के लिए की आपका गौरव आपके आसपास के लोगों,वस्तुओं का गौरव भी बड़ा देता है।