rahul gandhi कोरोना वायरस

नई दिल्ली। राहुल गांधी () ने गुरुवार को कोरोनवायरस पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मीडिया से बात की। राहुल गांधी (rahul gandhi)ने कहा कि के भीतर किए गए लॉकडाउन को कोरोना का हल नहीं। corona वायरस के लिए lockdown एक पॉज बटन की तरह है। इसके लिए जरुरी है आक्रामक तरीके से संक्रमण की जाँच होनी चाहिए!

राहुल गांधी (rahul gandhi) ने कहा कि देश में कोरोना संक्रमण की तेजी से परीक्षण करने की आवश्यकता है। अभी केवल 10 लाख व्यक्तियों में से 199 व्यक्तियों की जांच की जा रही है। हमें वायरस से लड़ने के लिए राज्य और जिला स्तर पर काम करना चाहिए। केरल में इसकी सफलता का कारण यह है कि इसे जिला स्तर पर रोकने के लिए काम किया गया।

हमें व्यापक स्तर पर प्लानिंग की जरूरत

राहुल गांधी ने कहा लोग lockdown की वजह से अभी घरों में बंद हैं तो कोरोना संक्रमण नहीं फैल रहा। लेकिन जैसे ही lockdown हटेगा, तो कोरोना संक्रमण तेजी से फैलेगा। लॉकडाउन के बाद की रणनीति पर फोकस करना पड़ेगा । साथ ही मेडिकल व्यवस्था क्या होगी, कैसे अस्पताल की सुविधाओं में इजाफा हो सकता है , इस पर तुरंत कार्रवाई होनी चाहिए। साथ ही इस समय वेंटीलेटर्स, अन्य जरूरी संसाधनों को एकत्रित कर सकते हैं।

भारत प्रवासी मजदूरों के लिए लॉकडाउन लागू करने वाला पहेला देश है


राहुल ने कहा कि भारत दुनिया में पहेला देश है जो प्रवासी मजदूरों के लिए लॉकडाउन लागू किया है। भारत में माइग्रेशन बड़ा है। यह चीन में भी हो सकता है, हालांकि स्रोतों की कमी नहीं है। इसके कारण, उन्होंने पूरा प्रबंधन किया। अप्रैल को आंशिक ताला खोलने की तैयारी चल रही है। मुझे डर है कि अगर इसे उचित तरीके से नहीं किया जाता है, तो एक बार फिर लॉकडाउन हो जाएगा।

government job

आज सामूहिक रूप से काम करने का समय है

राहुल गांधी ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा उठाए गए कई विकल्पों में मोदीजी से असहमत हो सकता हु , हालांकि यह समय नहीं है। आज सामूहिक रूप से काम करने का समय है। अगर हिंदुस्तान बंट गया तो हम हार जाएंगे। मैं कोई क्रेडिट स्कोर नहीं ढूंढ रहा हूं। राष्ट्र के लोग हमारे लिए अहम् हैं। लेकिन हमारा काम सिफारिश करना है और हम ऐसा करेंगे। जब हिंदुस्तान कोरोना के विरोध में सामूहिक रूप से लड़ रहा है तो आसानी से हम जीतेंगे।