चंडीगढ़: पंजाब में कोरोना वायरस के संक्रमण से चौथी मौत हुई है। नयागांव में मिले 65 वर्षीय बुजुर्ग मरीज ने मंगलवार सुबह दम तोड़ दिया। सोमवार को उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। यूटी एडवाइजर मनोज परिदा ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है कि नयागांव के कोरोना संक्रमित व्यक्ति की मौत आज सुबह 11:35 पर पीजीआई में हुई। बुजुर्ग पीजीआई चंडीगढ़ में भर्ती था।

इसलिए उसमें कोरोना की पुष्टि होते ही पीजीआई से लेकर चंडीगढ़ सेक्टर-16 स्थित जीएमएसएच प्रशासन तक सकते में आ गया, क्योंकि बुजुर्ग में पहले कोरोना के लक्षण नहीं दिखे थे और उसका इलाज सामान्य रूप से चल रहा था। कोरोना की पुष्टि के बाद आनन-फानन में पीजीआई प्रशासन ने मरीज के संपर्क में आए स्टाफ को क्वारंटीन कर दिया है।

इनमें 5 डॉक्टर, 22 नर्सिंग स्टाफ, 5 सैनिटेशन अटेंडेंट और 4 हॉस्पिटल अटेंडेंट शामिल हैं। वहीं, जीएमएसएच के मेडिसिन डिपार्टमेंट के पांच डॉक्टरों समेत दो इमरजेंसी मेडिकल ऑफिसर, एक रेडियोग्राफर और एक स्टाफ नर्स को भी क्वारंटीन कर दिया गया है। जानकारी के अनुसार, मरीज पीजीआई आने से पहले सेक्टर-16 स्थित जीएमएसएच में भी दो बार गया था। अब दोनों अस्पतालों में अन्य लोगों को संक्रमण से बचाने की कवायद शुरू कर दी गई है।
, पंजाब: कोरोना के संक्रमण से चौथी मौत, 12 डॉक्टर 33 कर्मी क्वारंटीन
अब तक मरीज का न तो यात्रा इतिहास पता चला है और न ही यह पता चला है कि अस्पताल आने से पहले वह कितने लोगों के संपर्क में आया था। प्रशासन ने एहतियात के तौर पर नयागांव सहित पूरे जिले को सील कर दिया है। नयागांव से संक्रमित बुजुर्ग के परिवार, मकान मालिक व अन्य किराएदारों के 12 ब्लड सैंपल ले लिए गए हैं। मोहाली के सिविल सर्जन डॉ. मनजीत सिंह के मुताबिक, मरीज पंजाब पुलिस का रिटायर्ड कर्मचारी है और वह पहले से ही लंग्स इंफेक्शन का शिकार था। वह अपनी पत्नी, बेटे, बहू व पोती के साथ पिछले दो साल से नयागांव में किराए के मकान में रह रहा था।
सिविल सर्जन ने बताया कि नयागांव में कोरोना पॉजिटिव मामला सामने आने के बाद प्रशासन हरकत में आ गया। नयागांव को सुबह ही सील कर दिया गया था जबकि दोपहर होते-होते पूरे जिले को ही सील कर दिया गया। नयागांव में सेहत विभाग की टीम ने पहुंच कर जांच के लिए लोगों के सैंपल लिए। इसके साथ ही संक्रमित मरीज के परिवार को सेहत विभाग ने अपनी निगरानी में ले लिया है।