नई दिल्ली। कोरोना के साथ-साथ भारत के समुद्रीय किनारे पर रहने वालों के ऊपर तूफान भी ढाने वाला है कहर। जिससे  निपटने के लिए कर रहे हैं। जी हां चक्रवात ‘अम्फान सोमवार को प्रचंड चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया है और वह उत्तरपूर्व बंगाल की खाड़ी की तरफ बढ़ सकता है।

तूफान ने लिया प्रचंड रूप, प्रधानमंत्री कर रहे हैं उच्च अधिकारियों के साथ बैठक 1
तस्वीर पर क्लिक करे – आगे पढ़े

विशेष राहत आयुक्त पी के जेना ने कहा कि इससे ओडिशा के तटीय इलाकों में भारी बारिश और तेज रफ्तार हवाएं चलने की आशंका बढ़ गई है और राज्य सरकार ने संवेदनशील इलाकों से लोगों को निकालने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। मछुआरों से 21 मई तक समुद्र में नहीं जाने को कहा गया है।

प्रधानमंत्री कर रहे हैं उच्च अधिकारियों के साथ बैठक

उधर भारत मौसम विज्ञान विभाग ने कहा है कि भीषण चक्रवाती तूफान का रूप ले चुका अम्फान बंगाल की खाड़ी के ऊपर और शक्तिशाली होकर धीरे-धीरे तट की तरफ बढ़ रहा है।  20 मई को पश्चिम बंगाल के दीघा और बांग्लादेश के हटिया द्वीप के बीच तटों से टकरा सकता है।

इस बीच पीएम मोदी दिल्ली में गृह मंत्रालय और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अधिकारियों के साथ बैठक में स्थिति की समीक्षा कर रहे हैं। गृहमंत्री अमित शाह भी इस बैठक में मौजूद हैं। यह अब प्रचंड चक्रवाती तूफान का रूप ले चुका है।

78 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं। विभाग ने कहा कि यह उत्तर-उत्तरपूर्व की तरफ बढ़ेगा और तेजी से उत्तरपश्चिम बंगाल की खाड़ी पहुंचेगा और भीषण चक्रवाती तूफान के रूप में दीघा और हटिया के बीच पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के तटों से टकराएगा।