( ) ने राष्ट्र के भीतर तेजी से बढ़ते के मरीजों की संख्या के मद्देनज़र से 3 मई तक राष्ट्र के भीतर को बढ़ा दिया है ! प्रधानमंत्री (pm modi) देशवासियों को संबोधित करते हैं, प्रत्येक शहर, गांव में 20 अप्रैल तक संभावित रूप से जांच की जाएगी। उन क्षेत्रों में जो हॉटस्पॉट विकसित करने में सक्षम नहीं होंगे, 20 अप्रैल से कुछ महत्वपूर्ण कार्यों की अनुमति दी जाएगी।

pm modi, pm modi का ऐलान : lockdown 3 मई तक बढ़ा

कोरोना अंतर्राष्ट्रीय महामारी के प्रति का संघर्ष बहुत दृढ़ता से कोरोना के खिलाफ प्रगति कर रहा है। आपके सभी देशवासियों की तपस्या, आपके बलिदान के कारण कोरोना से होने वाले नुकसान से काफी हद तक बचने में सफल रहा है। आपने संघर्ष करके अपने राष्ट्र को बचाया है। हमारे भारतवर्ष को बचा लिया। मैं समझता हूं कि आपने कितना संघर्ष किया है। कुछ लोगों को उपभोग करने में परेशानी होती है, कुछ को आने-जाने में परेशानी होती है, कुछ लोग घर से दूर होते हैं। लॉकडाउन के इस समय में, जिस शैली के माध्यम से राष्ट्र के लोग सिद्धांतों का पालन कर रहे हैं, उनका रहने से प्रतियोगिता का जश्न मनाने की सहजता बहुत सराहनीय हो सकती है।

भारत ने एक संक्रमण को यहीं रोकथाम करने का प्रयास कैसे किया, आप इसके साथी और साक्षी रहे हैं। आप राष्ट्र के लिए एक अनुशासित सैनिक की तरह अपना दायित्व निभा रहे हैं। मैं आप सभी को अपनी शुभकामनाएं देता हूं। यह हमारे लोगों की ऊर्जा के विषय में भारत के संविधान ने कहा है।


इससे पहले, पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए देश के सभी मुख्यमंत्रियों के साथ एक सभा की। विधानसभा में, पीएम ने संकेत दिया था कि केंद्र राष्ट्र के भीतर लॉकडाउन में सुधार कर सकता है। पीएम के साथ एक सभा में, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, पंजाब के अमरिंदर सिंह, महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे के साथ 10 सीएम ने तालाबंदी का विस्तार करने की सिफारिश की। सूत्रों के मुताबिक, केंद्रीय अधिकारी इस पर विचार कर रहे हैं।

इस समझौते के आधार पर, प्रधान मंत्री देशवासियों को भविष्य में कोरोना के संघर्ष के लिए उठाए जाने वाले कदमों और पूर्ण प्रतिबंध के अंतराल को बढ़ाने या न बढ़ाने के विकल्प से अवगत कराएंगे। इस विधानसभा के बाद, कुछ राज्यों ने पहले से ही 30 अप्रैल तक पूर्ण प्रतिबंध के अंतराल को बढ़ाने के लिए पेश किया है। इससे पहले, संसद में सभी घटकदल के नेताओं के साथ एक सभा में, श्री मोदी ने कहा था कि कोरोना के संक्रमणको बढ़ते देखते हुए राष्ट्र के भीतर, राज्यों, जिला प्रशासन और सलाहकारों ने पूर्ण प्रतिबंध के अंतराल को बढ़ाने की सिफारिश की है।