नई दिल्ली : पीएम नरेन्द्र मोदी ने विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संवाद किया और कोरोना वायरस को रोकने के लिए उठाए जा रहे कदमों की जानकारी की। पीएम मोदी ने मुख्यमंत्रियों से कहा कि आने वाले दिनों में लॉकडाउन का पूरी तरह से पालन कितना जरूरी है। बैठक में पीएम ने कहा, 15 अप्रैल को लॉकडाउन खत्म होने जा रहा है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि लोग गलियों और सड़कों पर पहले ही तरह घुमना शुरू कर दें। हमें तब भी जिम्मेदारी निभाना होगी। लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग ही कोरोना वायरस से लड़ने का उपाय हैं, जिनका पालन लॉकडाउन के बाद भी किया जाना जरूरी है।
पीएम मोदी, पीएम मोदी ने कहा- 15 अप्रैल को खत्म हो जाएगा लॉकडाउन, लेकिन…..
अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री ने पीएम मोदी के साथ इस मीटिंग के कुछ क्लीपिंग भी शेयर की। बैठक के दौरान पीएम मोदी ने मुख्यमंत्रियों से कहा कि कोरोना वायरस को रोकने के लिए 24 घंटे अलर्ट रहना जरूरी है। मोदी ने कहा, जंग तो अभी शुरू हुई है। इसमें कोई गलती न हो। पूरा अमला 24 घंटे अलर्ट रहे। मिलकर हमें कोरोना वायरस को भगाना है। केंद्र सरकार राज्यों की हर तरह से मदद कर रही है। भारत में लॉकडाउन के बावजूद कोरोना वायरस के केस लगातार बढ़ रहे हैं। सरकारें लगातार कोशिश कर रही हैं कि लोग घरों में रहें ताकि कोरोना वायरस को फैलने से रोका जा सकते, लेकिन कहीं-कहीं लोग इसका पालन नहीं कर रहे हैं।

कोरोना वायरस से बचाव के टिप्स देते हुए पीएम नरेन्द्र मोदी ने कहा कि आप इन्हें अपने जीवन का हिस्सा बनाएं, साथ ही दूसरों के साथ भी साझा करें। पीएम मोदी ने अपने संदेश के साथ आयुष मंत्रालय के दिशानिर्देशों से जुड़ी कुछ तस्वीरें भी पोस्ट की है। इन तस्वीरों में कोरोना वायरस से जुड़े इस संकट के दौरान अपनी देखभाल करने और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक उपाय बताए गए हैं।