की रोकथाम के लिए 25 मार्च से देश भर मे लागू किए गए का आज 34वां दिन है कोरोना वायरस के मरीज़ो की संख्या मे अगर इज़ाफा न हुआ और सब कुछ ठीक रहा तो मुमकिन है कि 6 दिन बाद यानि 3 मई को देशवासियो को लाक डाउन से निजात मिल जाए । भले ही 3 मई से को समाप्त कर दिया जाए लेकिन कोविड 19 कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए बहोत ज़रूरी है इस लिए धारा 144 लागू रहेगी धारा 144 के बीच एक साथ एक जगह पर 4 लोगो के एकत्र होने पर प्रतिबन्ध रहता है ।

का पर्याय बने कारोना वायरस को हराने के लिए सिर्फ दो ही रास्ते बताए गए है एक सामाजिक दूरी और दूसरा साफ सफाई क्यूकि कोरोना वायरस किसी एक धर्म या किसी एक जाति विशेष के लिए नही है इस लिए ये ज़रूरी है कि देश के सभी नागरिक खुद ही कोरोना वायरस को हराने के लिए सरकार द्वारा जारी की गई गाईड लाईन पर चले सरकार अपना काम करे और जनता को भी अपनी ज़िम्मेदारियां निभाने की मौजूदा समय मे कुछ ज़्यादा ही आवश्यकता है ।
lockdown, लखनऊ : lockdown का काउन्ट डाउन शुरू सब कुछ ठीक रहा तो बस 6 दिन!

लाक डाउन के 34वे दिन उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की सड़को का वही हाल था जो पहले था पुराने लखनऊ मे क्यंूकि मुस्लिम आबादी ज़्यादा है इस लिए मुस्लिम आबादी होने की वजह से यहंा रमज़ान के मददे नज़र भी कुछ ज़्यादा ही भीड़ रहती थी लेकिन कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए लागू किए गए lockdown का पालन यहां भी पूरी तरह से दिख रहा है कुछ दुकाने खुली रही जहा रोज़ादारो ने सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करते हुए ज़रूरत का सामान भी खरीदा। 

lockdown की भेंट चढ़ गई रंग बिरंगी टोपियों की दुकाने
34 दिनो से चल रहे lockdown के बीच पवित्र रमज़ान के महीने की रौनक भी भेंट चढ़ गई। रमज़ान शुरू होने से पहले ही नख्खास और मोलवींगज मे रंग बिरंगी टोपियों की दुकाने सज जाती थी लेकिन आज तीसरा रोज़ा भी पूरा हो गया लेकिन नख्खास और मोलवींगज की सूनी सड़को को देख कर ये कहा ही नही जा सकता है कि ये वही सड़कें है जहां रमज़ान से पहले रंग बिरंगी टोपियो की दुकानो से बाज़ार गुलज़ार रहता था । 

विश्व विख्यात लखनऊ के पर ताले लगे हुए है आम तौर पर पर पर दिन भर भीड़ रहती है और रमज़ान के महीने मे पर अगर कबाब पराठे लेने हो तो ग्रकत्रहक को काफी देर तक इन्तीज़ार करना पड़ता था लेकिन इस रमज़ान मे सबकुछ लाक डाउन के लाक मे लाक हो गया न कुल्चे नहारी न बिरयानी और न ही कबाब पराठे शीरमाल का स्वाद सब कुछ इस बार रोज़ादारो के लिए सिर्फ सुनी सुनाई बाते सी लगने लगी है।  

ENGLISH news के लिए – यहाँ क्लिक करे