दुमका 08 मई भारतीय जनता पार्टी ( ) की वरिष्ठ नेता और की पूर्व समाज कल्याण मंत्री डॉ. लुईस मरांडी ने मुख्यमंत्री हेमंत के भाई और झारखंड छात्र मोर्चा ( झाछमो) के केंद्रीय अध्यक्ष बसंत सोरेन पर पार्टी के कुछ नेताओं की मौजूदगी में कार्यकर्ताओं की बैठक कर लॉकडाउन के नियमों का उल्लघंन करने का आरोप लगाते हुए सरकार से इस संबंध में स्थिति स्पष्ट करने और अनुमति पत्र निर्गत करने वाले अधिकारियों के नाम सार्वजनिक करने की मांग की।


डॉ. मरांडी ने आज इस आशय से संबंधित जारी एक बयान में आरोप लगाते हुए कहा कि वैश्विक कोरोना महामारी से बचाव के मद्देनजर देश, राज्य और सभी जिले में प्रभावी है। इसके बावजूद मुख्यमंत्री के भाई बसंत सोरेन, पार्टी के केंद्रीय महासचिव और पूर्व सांसद प्रतिनिधि विजय कुमार सिंह, झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) नेता और जिला परिषद उपाध्यक्ष असीम मंडल की मौजूदगी में अपने समर्थकों के साथ बैठक करना कहां तक उचित है। लगभग तीन सौ किलोमीटर की दूरी तय कर रांची, बोकारो से यहां आकर बैठक करने की अनुमति कैसे मिली। इस बैठक के प्रयोजन और अनुमति पत्र जारी करने से संबंधित स्थिति स्पष्ट करने के साथ ही अधिकारियों का नाम सार्वजनिक किया जाना चाहिए।

भाजपा नेता ने कहा कि उन्हें दुमका की पूर्व विधायक और पूर्व मंत्री होने के बावजूद उन पर लॉकडाउन के मद्देनजर जिला अथवा अपने गांव के लोगों से मिलने या इस संकट की घड़ी में क्षेत्र में किसी भी प्रकार की गतिविधि पर प्रतिबंध लगाया गया है उन्होंने मुख्यमंत्री से मांग करते हुए कहा कि लॉकडाउन की इस अवधि में उनके भाई रांची से बोकारो, बोकारो से बिना किसी अनुमति के 300 किलोमीटर की यात्रा तय कर दुमका कैसे पहुंचे। यदि उन्हें सक्षम स्तर से अनुमति प्राप्त भी हो तो किस विशेष कारण से उन्हें दुमका आने की अनुमति प्रदान की गई।