दुनिया की वित्तीय प्रणाली सबसे खराब समय देखने वाली है क्योंकि 1930 के दशक की के बाद दूनिया में यह पहेली बार हुआ है –

(IMF) ने यह चेतावनी दी है। महामारी के मद्देनजर, आईएमएफ का मानना ​​है कि अंतर्राष्ट्रीय स्थानों द्वारा लॉकडाउन के कारण वर्ष 2020 दुनिया भर की अर्थ व्यवस्था बहोत ही ख़राब रहेने वाली है !

IMF

कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर अंतरराष्ट्रीय स्थानों द्वारा लॉकडाउन के कारण ‘द ग्रेट डिप्रेशन’ (वर्ल्ड डिप्रेशन) के बाद 1930 के दशक के सबसे खराब हिस्से को देखने के लिए विश्व वित्तीय प्रणाली जा रही है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने यह चेतावनी दी है

प्रति व्यक्ति की आई घटेगी !

आईएमएफ के प्रबंध निदेशक (एमडी) क्रिस्टलीना जॉर्जीवा ने गुरुवार को कहा कि 2020 में दुनिया के 170 से अधिक देशों में प्रति व्यक्ति आय कम हो सकती है।

गौरतलब है कि इससे पहले ग्रेट डिप्रेशन महामंदी 1930 के दशक में दुनिया में आया था। कोरोना की वजह से दुनिया भर की सरकारों ने सहायता पैकेजों को लगभग आठ ट्रिलियन {डॉलर} दिया है, हालांकि यह पर्याप्त नहीं है।

IMF

जॉर्जीवा ने कहा कि इस आपदा की अवधि के बारे में दुनिया असाधारण रूप से अनिश्चित है, हालांकि यह पहले ही स्पष्ट हो चुका है कि 2020 में अंतर्राष्ट्रीय विकास मूल्य में संभवत: एक गिरावट होगी। उन्होंने कहा, ‘हमारा अनुमान है कि हम सबसे महत्वपूर्ण गिरावट को देखने जा रहे हैं!

आयुष मंत्रालय के लिए यहाँ क्लिक करे – कोरोना से बचने के आसन उपाय