नई दिल्ली, 07 जून दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए अब dilli sarkar के सरकारी और निजी अस्पतालों में सिर्फ दिल्लीवासियों का इलाज किया जाएगा जबकि केंद्र सरकार के अस्पताल पहले की तरह सभी लोगों के लिए खुले रहेंगे और यह व्यवस्था कोरोना संक्रमण तक जारी रहेगी।


dilli sarkar ने सोमवार को कैबिनेट बैठक में यह फैसला लिया है। श्री केजरीवाल ने बताया कि dilli sarkar के अंतर्गत आने वाले अस्पतालों और दिल्ली के निजी अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली के लोगों का इलाज होगा। वहीं केंद्र सरकार के अस्पताल जैसे एम्स, सफरदरजंग और राम मनोहर लोहिया (आरएमएल) में सभी लोगों का इलाज हो सकेगा, जैसा अब तक होता भी आया है हालांकि, कुछ अस्पताल जो विशेष सर्जरी करते हैं, जो कहीं और नहीं होती, उनको करवाने के लिए देशभर से कोई भी दिल्ली आ सकता है, उस पर रोक नहीं होगी।


उन्होंने कहा कि पहले 60 से 70 प्रतिशत बाहर के लोग यहां के अस्पतालों में भर्ती होते रहे हैं लेकिन इस वक्त दिल्ली में समस्या है, कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। ऐसी स्थिति में पूरे देश के लिए अस्पताल खोल दिए तो दिल्ली के लोग कहां जाएंगे। श्री केजरीवाल ने बताया कि पांच डॉक्टरों की समिति बनाई गई थी जिन्होंने माना कि फिलहाल बाहर के मरीजों को रोकना होगा।


dilli sarkar श्री केजरीवाल के मुताबिक, समिति ने कहा है कि दिल्ली को जून के अंत तक 15 हजार कोविड बेड चाहिए होंगे। फिलहाल दिल्ली के पास नौ हजार बेड हैं और अगर अस्पताल सबके लिए खोल दिए तो ये नौ हजार तीन दिन में भर जाएंगे। उन्होंने कहा कि 7.5 लाख लोगों ने उन्हें सुझाव दिए, जिसमें से 90 प्रतिशत ने कहा कि फिलहाल कोरोना संकट तक दिल्ली के अस्पताल केवल दिल्लीवालों के लिए होने चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आठ जून से दिल्ली सील बॉर्डर को खोल रही है। इससे गाजियाबाद, नोएडा, गुरुग्राम और फरीदाबाद के लोग आसानी से दिल्ली आ सकेंगे। इसके साथ ही दिल्ली में रेस्त्रां, मॉल और धार्मिक स्थल खोले जाएंगे। इस दौरान केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन किया जाएगा। होटल और बैंक्वेट हॉल को अभी नहीं खोला जाएगा। हो सकता है आने वाले समय में होटलों को अस्पतालों के साथ अटैच करना पड़े, इसलिए उन्हें नहीं खोला जाएगा।
श्री केजरीवाल ने कहा dilli sarkar कि बुजुर्गों से अपील है कि बाहर या घर के अंदर भी किसी से संपर्क में न आने की कोशिश करें। इसके साथ ही जिसे पहले मधुमेह, रक्तचाप अथवा किसी अन्य तरह की बीमारी है, वह अतिरिक्त एहतियात बरतें और घरों से कम से कम निकलें।