एडिश्नल डीसीपी स्तर के 2015 बैच के युवा आईपीएस और कोरोना पॉजिटिव पाये गये अधिकारी शाहदरा जिले में तैनात हैं। इसके अलावा ने अपने एक बहादुर सिपाही अमित राणा (भारत नगर थाना) को भी कोरोना संक्रमण के चलते खो दिया है।


दिल्ली पुलिस के सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमित जवान मध्य दिल्ली में मिले हैं। यहां चांदनी महल थाने में ही कई जवान एक साथ कोरोना संक्रमित मिलने से हड़कंप मच गया था। हालांकि अब इन जवानों में से कई ड्यूटी पर वापिस भी लौट आये हैं। दिल्ली पुलिस के लिए यह थोड़ी सकून भरी खबर है।

अपने जवानों की कोरोना से हिफाजत के लिए दिल्ली पुलिस ने कोई कोर कसर बाकी नहीं छोड़ी है। कोरोना संक्रमित जवानों को लाने ले जाने के लिए विशेष किस्म के 6 वाहन भी तैयार किये गये हैं। बुधवार को दिल्ली पुलिस मुख्यालय ने उन तमाम सरकारी अस्पतालों के नामों का भी उल्लेख कर दिया, जिनमें कोरोना संक्रमित जवानों के इलाज के विशेष इंतजाम किये गये है।


इन अस्पतालों में प्रमुख हैं लोक नायक, राम मनोहर लोहिया, एम्स, सफदरजंग, मैक्स हॉस्पिटल साकेत, राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी, एम्स झज्जर, पीजीआई सोनीपत, ईएसआईसी साहिबाबाद यूपी इत्यादि प्रमुख हैं। इन सभी अस्पतालों में कुछ बिस्तर दिल्ली पुलिस को कोरोना संक्रमित जवानों अफसरों के लिए सुरक्षित रखने को कहा गया है।

ताकि आपात स्थिति में पुलिस जवान को इलाज की जरुरत के वक्त दाखिले में वक्त जाया न हो। दिल्ली पुलिस के कोरोना पॉजिटिव जवानों की देखभाल का सीधा जिम्मा अब विशेष आयुक्त ट्रैफिक ताज हसन के कंधों पर होगा। जो कोरोना संक्रमित जवान से लेकर उसके परिवार तक का ख्याल रखेंगे। साथ ही अस्पतालों में तत्काल कोरोनो संक्रमित जवानों के दाखिले का इंतजाम कराने वाली टीम में विशेष पुलिस आयुक्त महिला सुरक्षा नुजहत हसन को भी तैनात किया गया है।