नई दिल्ली, 09 जून जानलेवा कोरोना विषाणु की गिरफ्त में बुरी तरह जकड़ चुकी dilli के लिये राहत भरी खबर है कि राजधानी में इसके संक्रमण का अभी सामुदायिक प्रसार शुरू नहीं हुआ है लेकिन आने वाले दिनों में प्रकोप तेजी से बढ़ेगा और संक्रमितों की संख्या साढ़े पांच लाख तक पहुंच सकती है।

उपराज्यपाल अनिल बैजल के साथ मंगलवार को राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक के बाद उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि केंद्र सरकार के मौजूद अधिकारियों ने बताया dilli मेंं अभी कोरोना वायरस का सामुदायिक फैलाव नहीं हुआ है, इसलिए बैठक पर इस मुद्दे पर चर्चा की अभी कोई जरुरत नहीं है।

दोनों ने आने वाले दिनों में dilli में वायरस की भयावह तस्वीर पेश करते हुए कहा कि 31 जुलाई तक राजधानी में कोरोना के मामले साढ़े पांच लाख तक पहुंच सकते हैं जिसके लिए 80 हजार बेड की जरूरत पड़ेगी।

उन्होंने कहा 15 जुलाई तक सवा दो लाख मामले और अस्पतालों में 33 हजार बेड की आवश्यकता होगी।

उपराज्यपाल का फैसला बदलने के बाद dilli की बिगड़ी हालात की जिम्मेदारी कौन लेगा ?

श्री सिसोदिया ने कहा कि 15 जून तक 44 हजार मामले होने पर 6600 बेड की जरूरत पडेगी जबकि 30 जून तक एक लाख मामले होने पर पंद्रह हजार बेड की आवश्यकता पड़ेगी।

दिल्ली सरकार और राजधानी के निजी अस्पतालों में केवल राजधानी के लोगों के इलाज के फैसले को उपराज्यपाके पलटे जाने पर श्री सिसोदिया ने कहा कि श्री बैजल ने फैसला बदलने से पहले क्या कुछ समीक्षा आदि करवाई लेकिन उनके पास ( श्री बैजल) के पास इसका कोई जबाब नहीं था। उन्होंने कहा कि उपराज्यपाल का फैसला बदलने के बाद दिल्ली की बिगड़ी हालात की जिम्मेदारी कौन लेगा, इसका जबाब भी उपराज्यपाल के पास नहीं था।

दोनों ने कहा सरकार ने dilli के लोगों की भलाई के लिए बाहरी राज्यों के मरीजों को इलाज नहीं करने का निर्णय लिया था। श्री जैन ने कहा दिल्ली में तेजी से कोरोना फैल रहा है। दिल्ली में 50 प्रतिशत बाहरी राज्यों के मरीज आते हैं। बड़े अस्पताल में तो 70 प्रतिशत बाहरी मरीज होते है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि क्लस्टर और छोटी कॉलोनियों में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं ,लेकिन अभी सामुदायिक संक्रमण की हालत नहीं हुई है।

गौरतलब है कि संक्रमण के मामले में दिल्ली देश में तीसरे नंबर पर है। राजधानी में कोरोना वायरस के कुल 29 हजार 943 मामले आ चुके हैं। फिलहाल यहां 17712 सक्रिय मामले हैं और 874 की मौत हो चुकी है।