नई दिल्ली, 03 जुलाई (वार्ता) दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एलएनजेपी अस्पताल के वरिष्ठ डॉक्टर असीम गुप्ता के घर जाकर एक करोड़ की सम्मान राशि का चेक उनके परिवार को सौंपा। वरिष्ठ डॉक्टर असीम गुप्ता की पिछले दिनों कोरोना से मृत्यु हो गई थी।

श्री केजरीवाल ने कहा कि ‘हमने जो एक करोड़ का चेक दिया है, वह बहुत छोटी राशि है, एक तरह से किसी की जान की कोई कीमत नहीं होती। एक तरह से यह सम्मान देने वाली बात है। इसके अलावा कभी भी परिवार को किसी तरह की कोई परेशानी होगी तो मैं भाई की तरह हूं। निसंकोच मुझे बताएं।’

मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर कहा “ कोरोना के कारण जान गंवाने वाले स्वर्गीय असीम गुप्ता जी के परिवार से मिला, उन्हें एक करोड़ की सम्मान राशि दी। हम उन्हें वापस लाने के लिए कुछ नहीं कर सकते, लेकिन यह हमारा कर्तव्य है कि जो हमारे लिए अपना जीवन दांव पर लगाते हैं, हम उनके परिवारों का सहयोग करें।”

श्री केजरीवाल शुक्रवार दोपहर करीब 12 बजे एलएनजेपी अस्पताल के वरिष्ठ डॉक्टर असीम गुप्ता के दिलशाद गार्डन स्थित आवास पहुंचे। जहां उन्होंने पुष्प अर्पित कर डॉ. असीम गुप्ता को श्रद्धांजलि देने के बाद परिवार के सदस्यों से मुलाकात की। उन्होंने परिवार के सदस्यों को भरोसा दिलाया कि दिल्ली सरकार हर पल उनके साथ खड़ी है। मुख्यमंत्री ने डॉक्टर असीम गुप्ता की पत्नी डा. निरुपमा को एक करोड़ की सम्मान राशि का चेक सौंपा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि डॉ असीम गुप्ता दिल्ली में कोरोना के मरीजों का इलाज करते-करते शहीद हो गए, यह हमलोगों के लिए बहुत बड़ा नुकसान है। डाक्टर, नर्सेज, पैरा मेडिकल स्टाँफ इस वक्त दिल्ली में कोरोना से लड़ते हुए, जिस तरह लोगों की जान बचा रहे हैं, यही कोरोना के खिलाफ जंग में इस वक्त हमारा सबसे बड़ा सहारा हैं।

डॉ़ असीम गुप्ता जैसे बहुत बिरले लोग होते हैं। मैंने एलएनजेपी में भी उनके कई सहकर्मियों से बात की। लोग बताते हैं कि किस तरह डॉ़ असीम गुप्ता बढ़-चढ़कर कोरोना के मरीजों की सेवा करते थे। उन्होंने कभी इस बात की परवाह नहीं की कि उन्हें कोरोना हो जाएगा।

एक सवाल के जवाब में श्री केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कोरोना वायरस के खिलाफ काम में काफी तेजी हुई है। पिछले 15-20 दिन या एक महीना पहले जो दिल्ली की स्थिति थी, लाॅकडाउन खुलने के बाद जितनी तेजी से कोरोना बढ़ना शुरू हुआ, उसके मुताबिक जो दिल्ली में 30 जून तक अनुमान था कि 60 हजार एक्टिव केस होंगे लेकिन आज दिल्ली में सिर्फ 25000 एक्टिव केस है। यह सब लोगों की मेहनत का मिलाजुला असर है।

पूरा समाज, दिल्ली के दो करोड़ लोग, सारी सरकारें एक साथ आईं, तभी यह संभव हुआ है। अब दिल्ली में एक डाउनवार्ड ट्रेंड देखने को मिल रहा है, इसका मतलब यह नहीं कि हम हाथ पर हाथ रखकर बैठ जाएंगे, हमें तैयारी पूरी रखनी है, । कोरोना वैक्सीन जल्द बनने की उम्मीद के सवाल पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हम उम्मीद हैं कि जल्द से जल्द करोना की वैक्सीन विकसित हो और देश को नहीं पूरी दुनिया को कोरोना से राहत मिल सके।