: कोरबा में 33 दिन बाद एक बार फिर कोरोना संक्रमण की वापसी हुई है। दिल्ली में रह कर यूपीएससी की तैयारी करने वाला एक विद्यार्थी राजधानी एक्सप्रेस से वापस लौटा था। उसके बाद से वह शहर के एक होटल में तैयार किए गए एक क्वारंटाइन सेंटर में था। रिपोर्ट आने के बाद उसे कोविड अस्पताल बिलासपुर भेज दिया गया है।

13 मई को बिलासपुर पहुंची राजधानी एक्सप्रेस में कोरबा के 73 लोग दिल्ली समेत अन्य स्थानों से यहां पहुंचे। सभी को प्रशासन ने होम क्वारंटाइन करने की जगह क्वारंटाइन सेंटर में रखा। इसमें शामिल बल्गी कॉलोनी में रहने वाले एसईसीएल कर्मी के 25 वर्षीय पुत्र ने महाराजा आशीर्वाद इन होटल में रहने का विकल्प चुना।

प्रशासन ने इस वैकल्पिक पेड क्वारंटाइन सेंटर में उसे रखा था। बताया जा रहा है कि राजधानी एक्सप्रेस से लौटे सभी यात्रियों का सैंपल एम्स रायपुर भेजा गया था। मंगलवार की शाम को रिपोर्ट आई तो युवक कोरोना संक्रमित निकला। इसके साथ ही कलेक्टर किरण कौशल समेत तमाम अफसर ट्रांसपोर्ट नगर स्थित क्वारंटाइन सेंटर पहुंचे और युवक को एंबुलेंस से बिलासपुर स्थित कोविड 19 अस्पताल भेजा गया।

होटल के आसपास के एरिया को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है। प्रशासन का कहना है कि स्टेशन से युवक को सीधे क्वारंटाइन सेंटर प्रशासन की गा़ड़ी में लाया गया था। वह यहां किसी से मिला जुला नहीं है। परिजनों से भी उसकी मुलाकात नहीं हुई है, इससे संक्रमण फैलने का खतरा नहीं है। इसके बावजूद एहतियातन कदम उठाए जा रहे। कलेक्टर ने इस पेड क्वारंटाइन सेंटर में संक्रमण की रोकथाम के लिए किए गए इंतजामों और व्यवस्थाओं का जायजा लिया।


जिले में इसे मिलाकर अब तक 29 संक्रमित मिल चुके हैं। 28 संक्रमित स्वस्थ होकर वापस लौट चुके हैं। हॉट स्पॉट कटघोरा में 16 अप्रैल को आखिरी बार पॉजिटिव रिपोर्ट आई थी। कटघोरा में स्थिति सामान्य हो गई, पर अन्य राज्य में फंसे लोगों के अलावा मजदूर भी वापस लौट रहे हैं, इससे एक बार फिर कोरबा पर संक्रमण का खतरा मंडराने लगा है।