cricket news: मुंबई, 13 जून और के सबसे उम्रदराज पूर्व प्रथम श्रेणी क्रिकेटर वसंत रायजी का मुंबई में शनिवार को हो गया। वह 100 वर्ष के थे।

रायजी के दामाद सुदर्शन नानावटी ने उनके निधन की पुष्टि करते हुए बताया कि पूर्व क्रिकेटर की मृत्यु उम्र संबंधी ी के कारण हुई है। रायजी के दामाद के अनुसार उनकी मृत्यु रात को दो बजकर 20 मिनट पर मुंबई स्थित उनके निवास पर हुई। उनके परिवार में पत्नी और दो पुत्रियां हैं।

वसंत रायजी ने इस साल 26 जनवरी को ही अपनी जिंदगी का शतक पूरा किया था। तब लीजेंड क्रिकेटर सुनील गावस्कर, सचिन तेंदुलकर और ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्‍टीव वॉ उनसे मिलने उनके घर गए थे। रायजी जब 13 साल के थे, तब भारत ने दक्षिण मुंबई के बांबे जिमखाना में पहला टेस्ट मैच खेला था।

cricket news: मुंबई और बड़ौदा के लिए खेले दाएं हाथ के बल्लेबाज रायजी ने 1939 में क्लब ऑफ इंडिया के लिए फेस्टिवल मैच में नागपुर में मध्य प्रांत और बेरार के खिलाफ पदार्पण किया था। इस मैच में दिग्गज क्रिकेटर सीके नायुडू, मुश्ताक अली, विजय हजारे और लाला अमरनाथ जैसे खिलाड़ी भी शामिल थे। रायजी इसके बाद 1941 में मुंबई के लिए खेले। उन्होंने मुंबई के लिए विजय मर्चेंट की कप्तानी में वेस्टर्न इंडिया के खिलाफ अपना पदार्पण किया था।

उन्होंने अपने करियर में 1939 से 1950 तक कुल नौ प्रथम श्रेणी मैच खेले। नौ मैचों की 14 पारियों में उन्होंने 23.08 के 277 रन बनाए जिसमें 68 रन उनका सर्वाधिक स्कोर था। उन्होंने दो अर्धशतक बनाये थे। रायजी ने ये दोनों अर्धशतक दिसम्बर 1944 में बड़ौदा की तरफ से खेलते हुए के खिलाफ एक ही रणजी ट्रॉफी मैच में बनाये थे।

उनका एक दशक लम्बा करियर द्वितीय विश्व युद्ध के कारण प्रभावित रहा। वह बाद में क्रिकेट इतिहासकार बने और उन्होंने कई किताबें लिखीं। उन्होंने रंजीत सिंह जी, दलीप सिंह जी ,सीके नायुडू और विक्टर ट्रंपर की बायोग्राफी लिखी थीं।