देश में कोरोना का कहर थमने की जगह बढ़ता ही जा रहा है। इन हालातों को मद्देनज़र हुए लॉकडाउन की सीमा और बढ़ाने पर विचार किया जा रहा है, इसी से सम्बंधित प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बातचीत कर रहे हैं और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हो रही है इस बैठक में लॉकडाउन को 14 अप्रैल के बाद बढ़ाने पर फैसला लिया जा सकता है।

लॉकडाउन, क्या लॉकडाउन की सीमा बढ़ेगी ? जबकि corona का कहर बढ़ता जा रहा है
लॉकडाउन

यहाँ दरअसल केंद्रीय गृह मंत्रालय ने भी 14 अप्रैल को खत्म हो रहा है और 21 दिनों के लॉकडाउन पर राज्य सरकारों के विचार मांगे हैं। साथ ही क्या अधिक लोगों एवं सेवाओं को छूट दिये जाने की आवश्यकता है या नहीं और इस बारे में भी सुझाव मांगे गये हैं की राज्य सरकारों द्वारा दिये गये सुझाव जिसमे ग्रामीण इलाकों में निर्माण संबंधी गतिविधियों को इजाजत देना शामिल है तथा देश के विभिन्न हिस्सों में आवश्यक वस्तुओं की कमी पड़ने की भी खबरें आ रही है।

लॉकडाउन राज्यों के दिए गए सुजाव

कई राज्यों ने अतिरिक्त रूप से माल ढुलाई के अलावा सील किए गए क्षेत्रों की सीमाओं को बनाए रखने का अनुरोध किया है। कुछ राज्यों ने सख्त प्रतिबंधों के साथ क्षेत्रवार तालाबंदी की सिफारिश की है। इस बीच, दिल्ली, ओडिशा और तेलंगाना के साथ बहुत से राज्यों में, घर से बाहर निकलते ही व्यक्तियों को मास्क पहनना आवश्यक बना दिया गया है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से अनुरोध किया है कि वे 21 दिनों के तालाबंदी का कड़ाई से अनुपालन करें और आने वाले त्योहारों के मद्देनजर किसी भी सामाजिक या आध्यात्मिक जुलूस और जुलूस की अनुमति न दें।

आधिकारिक लॉन्च के अनुसार, अप्रैल महीने के भीतर आने वाले उत्सवों के मद्देनजर, गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को निर्देश दिया है कि वे कोरोना की वैधता को रोकने के लिए प्रासंगिक लॉकडाउन (बंद) का कड़ाई से पालन करें। वायरस एक संक्रमण और किसी भी सामाजिक, आध्यात्मिक जुलूस या जुलूस की अनुमति नहीं है। लॉकडाउन को एक प्रकार की आपातकालीन प्रणाली के रूप में जाना जाता है। जिसके तहत गैर-सार्वजनिक संस्थानों के अलावा सार्वजनिक आगंतुक बंद हैं। वर्तमान में, स्वास्थ्य आपातकाल के तहत राष्ट्र के सभी घटकों में लॉकडाउन लगाया गया है।

लॉकडाउन, क्या लॉकडाउन की सीमा बढ़ेगी ? जबकि corona का कहर बढ़ता जा रहा है
सरकारी नौकरी