कोरोना से लड़ने में बेबस पाकिस्तान, सैनेटाइज की सुविधा तो दूर साफ-सुथरे टेंट, टॉयलेट भी नहिं…!? कोरोना वायरस को लेकर पाकिस्तान की तैयारियों की पोल पूरी दुनिया के सामने खुल गई है. पाकिस्तान-ईरान बॉर्डर पर कोरोना वायरस के संक्रमण के डर से बनाए गए आइसोलेशन कैंप में इंसानों की जिंदगी जानवरों से भी बदतर हो चुकी है. यहां पसीने और मानव मल की बदबू के बीच 6000 से ज्यादा लोगों की जिंदगी के साथ सुविधाओं के नाम पर मजाक हो रहा है.
यह आइसोलेशन कैंप पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में ताफतान शहर में बनाया गया है. ईरान से पाकिस्तान में दाखिल होने वाले लोगों को कोरना वायरस के डर से यहीं ठहराया गया है. बता दें कि चीन और इटली के बाद ईरान में कोरोना वायरस का प्रकोप सबसे ज्यादा देखने को मिला है. इसी कैंप में तकरीबन दो हफ्ते बिताने वाले मोहम्मद बकीर ने कैंप में लोगों की तंगहाली बयां की है. बकीर ने बताया कि यहां सैनेटाइज की सुविधा तो दूर की बात है साफ-सुथरे टेंट, टॉयलेट, तौलिया और चादर तक को लोग तरस रहे हैं.