कोरोना वायरस को लेकर दिल्ली में आप आदमी पार्टी की अरविंद केजरीवाल सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। मुख्यमंत्री केजरीवाल ने संवाददाता सम्मेलन में बताया कि सभी तरह की सभाएं जिसमें 50 से ज्यादा लोग शामिल हैं उनकी मंजूरी नहीं दी जाएगी। शादी को इसके दायरे से बाहर रखा गया है। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रदर्शन को मंजूरी नहीं मिलेगी और यह शाहीन बाग पर भी लागू होगा। दिल्ली सरकार के इस फैसले के बाद पिछले 93 दिनों से चल रहा शाहीन बाग प्रदर्शन खत्‍म हो जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी ऑटो, टैक्सियों को मुफ्त में संक्रमण मुक्त किया जाएगा, अधिकतर स्थानों पर हैंड सैनिटाइज़र मुहैया कराए जाएंगे। दिल्ली में ऐसे किसी भी प्रदर्शन को अनुमति नहीं दी जाएगी, जिनमें 50 से अधिक लोग शामिल हों। देखेंगे, कि क्या दिल्ली मेट्रो में भी थर्मल जांच संभव हो सकती है। दिल्ली के तीन होटलों लेमन ट्री, रेड फॉक्स और आईबीआईएस में लोगों को पृथक रखे जाने की व्यवस्था की गई है। आपको बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और एनआरसी के खिलाफ 16 दिसंबर से दिल्ली के शाहीन बाग में प्रदर्शनकारी बैठे हैं।

केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली में कोरोना वायरस से संक्रमित सात में से चार लोगों का इलाज जारी। मामले बढ़ने पर पर्याप्त बिस्तरों का बंदोबस्त है। दिल्ली में 31 मार्च तक 50 से अधिक लोगों वाले धार्मिक, सामाजिक सांस्कृतिक कार्यक्रम, राजनीतिक बैठक नहीं होंगी। शादियों को कोरोना वायरस के संबंध में जारी पाबंदियों से बाहर रखा गया है लेकिन तारीखों को आगे बढ़ाने पर विचार करने का सुझाव दिया गया है।