कोरोना वायरस संकट के बीच इटली में भारत के फंसे 263 छात्रों को लेकर एयर इंडिया विशेष विमान दिल्ली पहुंचा है. इटली में एक दिन में रिकॉर्ड 793 लोगों की मौत हुई है. इस खतरनाक संक्रमण से दुनिया भर में अब तक 12000 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है, जबकि ढाई लाख लोग इस बीमारी की चपेट में आ चुके हैं.
आंकड़े बता रहे हैं कि इटली में कोरोना का कहर रुकने का नाम नहीं ले रहा है.
शुक्रवार को इटली में कोरोना की वजह से 627 लोगों की जान चली गई, जबकि कोरोना वायरस के संक्रमण के 5986 नए मामले भी सामने आए.
आपको बता दें कि शुक्रवार के इन आंकड़ों को मिला लें तो इटली में अब तक कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 4032 हो चुकी है. वहीं कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या भी बढ़कर 47,021 हो चुकी है.
बता दें कि भारत के अंदर कोरोना वायरस से लड़ाई के बीच विदेश में फंसे नागरिकों को भी निकाला जा रहा है. चीन के बाद इटली और ईरान में कोरोना ने कहर बरपाया है, लिहाजा वहां फंसे भारतीयों को स्वदेश वापस लाने का काम किया जा रहा है. इस कड़ी में पहले ही इटली और ईरान से 400 से ज्यादा लोगों को विशेष विमानों से भारत लाया जा चुका है.
विदेश मंत्री एस जयशंकर के मुताबिक कोरोनो वायरस प्रभावित ईरान में फंसे 234 भारतीय स्वदेश पहुंच गए हैं. स्वदेश पहुंचे इस बैच में 131 छात्र और 103 तीर्थयात्री शामिल हैं. ईरान में फंसे 234 भारतीयों को वापस लाया जा चुका है जिनमें छात्र और तीर्थयात्री शामिल हैं.
‘मिशन एयरलिफ्ट’ पूरा होने के बाद एस जयशंकर ने ट्वीट कर ईरानी राजदूत धामू गद्दाम और इस बड़े अभियान में लगी पूरी टीम को धन्यवाद दिया. विदेश मंत्री ने ईरानी अधिकारियों को भी धन्यवाद कहा. रविवार को भारतीयों का तीसरा बैच ईरान से स्वदेश लौटा. इससे पहले शुक्रवार को दूसरा बैच भारत आया था. इसके साथ ही इटली से 218 लोगों का दल भी भारत पहुंचा है.