नई दिल्ली, 07 जून कांग्रेस ने कहा है दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ने से अस्पताल कम पड़ रहे हैं और दिल्ली सरकार corona की लड़ाई में फिसड्डी साबित हो रही है जिससे आने वाले समय में संकट और गहरा जाएगा।


कांग्रेस प्रवक्ता अजय माकन ने रविवार को यहां विशेष संवाददाता सम्मेलन में कहा कि दिल्ली में कोरोना किस तरह से पसर रहा है, इसका अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि देश में corona संक्रमण की दर दिल्ली में सबसे ज्यादा है तथा इस महामारी से ठीक होने वालों की दर सबसे कम है। दिल्ली सरकार ने इस महामारी से लड़ने की कोई तैयारी नहीं की है, इसकी पोल दिल्ली के अस्पतालों की स्थिति ने खोल दी है।


उन्होंने कहा कि दिल्ली में corona मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है और डॉ महेश वर्मा कमेटी का अनुमान है कि 15 जुलाई तक राष्ट्रीय राजधानी में एक लाख 90 हजार लोग कोरोना पॉजिटिव होंगे जिनके इलाज के लिए बड़ी संख्या में लोगों को अस्पताल में भर्ती करना पड़ सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इस रफ्तार से बढ़ रहे कोरोना के मामलों को देखते हुए 15 जुलाई तक दिल्ली में 42000 बेड कोरोना मरीजों के लिए चाहिए जबकि फिलहाल सिर्फ 8600 बेड ही उपलब्ध हैं।


श्री माकन ने कहा कि डॉ वर्मा कमेटी का कहना है कि दिल्ली में इस समय कोरोना मरीजों के लिए 1700 वेंटिलेटर बेड होने चाहिए जबकि यह संख्या महज चार सौ है और 15 जुलाई तक ऐसे बेड की संख्या 10500 होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार को बताना चाहिए कि वह इस जरूरत को कैसे पूरा कर पाएगी। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि दिल्ली, तेलंगाना और पश्चिम बंगाल सरकार कोरोना को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के दिशा निर्देशों का पालन नहीं कर रही हैं।