30 अप्रेल राजस्थान में अजमेर स्थित सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की महाना छठी चुनिंदा पास धारक खादिमों ने शानोशौकत से मनाई।

ख्वाजा की छठी


रमजान माह की आज छह तारीख यानी 30 अप्रैल को सुबह ठीक नौ बजे दरगाह के आहता-ए-नूर में कुरान की तिलावत के साथ परंपरागत तरीके से रस्मों का आगाज हुआ। ख्वाजा साहब की जीवनी व शिक्षाओं का बखान कर फातिहा पढ़ी गई। खादिम-ए-ख्वाजा की ओर से ही सभी परंपराएं निभाई गई और नियाज भी पढ़ी गई।


लॉकडाउन के मद्देनजर मुस्लिम परिवारों ने घरों पर ही फातिहा पढ़ी। दरगाह शरीफ में मुल्क सहित पूरे विश्व से कोरोना संक्रमण मुक्ति के साथ साथ सुख समृद्धि, भाईचारे व खुशहाली की दुआ की गई।
उल्लेखनीय है कि इस अप्रैल माह में दो बार ख्वाजा की छठी मनाई गई है। पहले 1 अप्रैल को शबान माह की छठी मनाई गई थी तो आज पवित्र रमजान माह की छह तारीख को छठी मनाई गई।

इस दुनिया को अलविदा अपनी मां को
इरफ़ान खान के आखरी शब्द – आगे पढ़े